भाजपा को जनता के बीच लाना चाहिए अपना रिपोर्ट कार्ड और फिर मांगे जनता से वोट – कृष्णा अलावरू

शिमला.

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के संयुक्त सचिव और युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रभारी कृष्णा अलावरू ने भाजपा को चुनौती दी है कि वह हिमाचल में अपने कार्यकाल के पांच साल में किए गए कार्यों पर लोगों से वोट मांगे। उन्होंने कहा कि भाजपा को प्रदेश की जनता और खासकर युवाओं को बताना चाहिए कि उनकी सरकार ने पिछले पांच साल में क्या काम किए और फिर जाकर वोट मांगना चाहिए। इसके लिए भाजपा को जनता के समक्ष अपना रिपोर्ट कार्ड लाना चाहिए। उन्होंने भाजपा से पूछा कि किन मुद्दों पर चुनाव में जनता के बीच जा रही है। उन्होंने लोगों से अपील की कि वे भाजपा के जुमलों, नारों और प्रचार पर न जाएं और जब भाजपा नेता उनके पास आए, तो पूछें कि उनकी सरकार ने पांच साल में क्या कार्य किए हैं।

अलावरू ने सोमवार को यहां प्रेस कांफ्रेंस में भाजपा से पूछा कि उनकी सरकार ने हिमाचल में पांच साल में क्या कार्य किए हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा ने 2017 में प्रदेश की जनता और खासकर युवाओं से कई वादे किए थे। इनमें एक बेरोजगारी दूर करने और रोजगार देने का था। लेकिन ये वादे पूरे नहीं किए, उलटे 14 लाख बेरोजगारों की फौज खड़ी कर दी। उन्होंने कहा कि भाजपा का रिपोर्ट कार्ड देखें तो उसमें वह हर विषय में फेल है। उन्होंने भाजपा नेतृत्व से पूछा कि हिमाचल में सरकारी विभागों में 63 हजार से अधिक पद खाली क्यों हैं। ऐसे में भाजपा नेता वोट मांगते समय यह जरूर बताएं कि ये पद खाली क्यों है और क्यों युवाओं को वह रोजगार नहीं दे पाए।

कांग्रेस नेता ने कहा कि भाजपा ने 2017 के अपने चुनाव घोषणा पत्र में नशाखोरी पर लगाने का वादा किया था, लेकिन अफसोस की बात है कि यह वादा जुमला साबित हुआ और इसे रोकने को कोई कदम नहीं उठाया। इसलिए अब केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह कह रहे हैं कि अगले पांच साल में हिमाचल में नशाखोरी को रोका जाएगा और इसके लिए प्रभावी कदम उठाएंगे। उन्होंने कहा कि फिर पिछले पांच साल इस दिशा में भाजपा सरकार ने क्या किया, वह जनता को बताए। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा पिछले पांच साल नशाखोरी रोकने में नाकाम रही है और इसमें वह फेल हुई है। उन्होंने अच्छी शिक्षादेने के मामले पर भी भाजपा को घेरा और कहा कि इसमें वह फेल हुई है। उन्होंने कहा कि भाजपा को दम है कि वह युवाओं की आंख में आंख डालकर देखे और युवाओं के लिए किए गए कार्यों को बताए। उन्होंने कहा कि हिमाचल में भाजपा राज में पुलिस भर्ती पेपर लीक हुआ है और इससे हजारों युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ हुआ है।

कृष्णा अलावरू ने कहा कि डबल इंजन की सरकार आम जनता को राहत देने में फेल है और महंगाई बढ़ाने में पास है। उन्होंने कहा कि भाजपा नेताओं के लिए चुनाव घोषणा पत्र केवल मात्र चुनावी जुमला होता है और इसलिए ही वह लोगों से किए वादों को पूरा नहीं करते। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने जनता से जो-जो वादे हैं, उन्हें पूरा किया है। चाहे केंद्र की डॉ. मनमोहन सिंह सरकार रही हो या फिर हिमाचल की वीरभद्र सिंह सरकार रही है। उन्होंने कहा कि मनमोहन सिंह सरकार ने मनरेगा लाया और उसे लागू करके दिखाया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की राजस्थान और छत्तीसगढ़ सरकार ने ओपीएस लागू करके दिखाया है और इसे अब हिमाचल में भी लागू किया जाएगा। इसके विपरीत भाजपा ने इस मुद्दे का जिक्र अपने चुनाव घोषणा पत्र में नहीं किया है।

अलावरू ने कहा कि कांग्रेस ने हिमाचल की जनता से वादा किया है कि वह सरकार बनने पर पहली कैबिनेट में एक लाख नौकरियों पर मुहर लगाएगी। उन्होंने कहा कि 680 करोड़ रुपए के स्टार्टअफ फंड से हर हलके में युवाओं को स्वरोजगार के लिए ऋण दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि 18 वर्ष से अधिक आयु की हर महिला को हर माह 1500 रुपए उनके खाते में आएंगे। अलावरू ने कहा कि कांग्रेस ने जो-जो वादे किए हैं, वे पूरे किए जाएंगे। उन्होंने भाजपा से पूछा कि वे बताए कि वह किन मुद्दों पर चुनाव लड़ रहे हैं। उन्होंने दोहराया कि भाजपा पहले अपना रिपोर्ट कार्ड जनता के बीच रखे और फिर जाकर वोट मांगे।

...तब याद आई युवा कांग्रेस

 

कृष्णा अलावरू ने कहा कि देश में कोरोना काल में युवा कांग्रेस का सबसे अहम रोल रहा है। उन्होंने ने कहा कि कोरोना के कारण देश में जब चारों ओर हाहाकार मचा था, तो जरूरतमंदों को भगवान के बाद केवल युवा कांग्रेस और उसमें भी इसके अध्यक्ष श्रीनिवास बी. वी. याद आ रहे थे। उस समय पीएम, सीएम या अन्य कोई नेता याद नहीं आया। उन्होंने कहा कि जब देश के वेक्सीन की जरूरत थी तो इसे यहां से दूसरे देशों को भेजा जा रहा था।

भाजपा राज में सबसे ज्यादा युवा वर्ग हुआ शोषित – भंडारी

प्रदेश युवा कांग्रेस अध्यक्ष निगम भंडारी ने आरोप लगाया कि भाजपा के शासनकाल में सबसे अधिक युवा वर्ग शोषित हुआ है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने हर घर से एक युवा को रोजगार देने का वादा किया था, लेकिन रोजगार नहीं मिला, उलटे बेरोजगारी बढ़ गई और इससे युवा वर्ग नशे की गिरफ्त में चला गया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस युवाओं को रोजगार की गारंटी दे रही है और राज्य में कांग्रेस सरकार बनने पर युवा आयोग का गठन होगा। वहीं, सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि किसी भी पद का विज्ञापन जारी होने के छह माह के भीतर नौकरी मिल जाए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए कोचिंग सेंटर खोलेगी और ग्रामीण इलाकों में खेलों को बढ़ावा देने को कदम उठाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि करूणामूलक आधार पर नौकरियों के मामले का एकमुश्त निपटारा किया जाएगा। वहीं, मनरेगा में 150 दिन का रोजगार मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.