मुख्यमंत्री ने अंतर्राष्ट्रीय कुल्लू दशहरा उत्सव के समापन अवसर पर बढ़ाया देवताओं का नजराना

मणिकर्ण, हरिपुर और वशिष्ठ में दशहरे के आयोजन के लिए अनुदान में भी की वृद्धि

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज कुल्लू के अटल सदन के सभागार में अंतर्राष्ट्रीय कुल्लू दशहरा उत्सव-2022 के समापन समारोह की अध्यक्षता करते हुए कुल्लू घाटी के देवी-देवताओं के नजराने में 15 प्रतिशत और बजंतरियों के मानदेय में 20 प्रतिशत की वृद्धि करने की घोषणा की। उन्होंने कुल्लू दशहरा के लिए दूर-दूर से आने वाले देवताओं के दूरी भत्ते में भी बढ़ोतरी की घोषणा की।
मुख्यमंत्री ने कहा कि दूरी भत्ता न पाने वाले देवी-देवताओं को भी जिला कारदार संघ की मांग के अनुसार 1500 रुपये भत्ता दिया जाएगा।
उन्होंने हरिपुर और मणिकर्ण में दशहरे के आयोजन के लिए दी जाने वाली अनुदान राशि को एक लाख रुपये से बढ़ाकर 1.25 लाख रुपये और वशिष्ठ में दशहरा के लिए 75 हजार से बढ़ाकर एक लाख रुपये करने की भी घोषणा की। उन्होंने कहा कि नग्गर में भी दशहरा के उत्सव के लिए 50,000 रुपये का अनुदान दिया जाएगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कुल्लू दशहरा राज्य के सबसे महत्वपूर्ण उत्सवों में से एक है और इसमें लाखों लोग उत्साह एवं उल्लास के साथ भाग लेते हैं। उन्होंने कहा कि इस साल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आगमन से अंतर्राष्ट्रीय कुल्लू दशहरा और भी ऐतिहासिक हो गया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने न केवल इस उत्सव में भाग लिया, बल्कि विधिवत पूजा-अर्चना करके भगवान रघुनाथ का आशीर्वाद भी लिया।
जय राम ठाकुर ने कहा कि कोविड महामारी के बावजूद प्रदेश सरकार ने हिमाचल का विकास प्रभावित नहीं होने दिया। उन्होंने कहा कि एम्स और अटल टनल आदि संस्थान एवं परियोजनाओं के लोकार्पण से राज्य के चहुमुखी विकास को बल मिला है। उन्होंने कहा कि बल्क ड्रग पार्क और मेडिकल डिवाइसेस पार्क आदि महत्वाकांक्षी परियोजनाओं को भी मंजूरी दी गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्नेह और आशीर्वाद से संभव हुआ है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस पार्टी प्रदेश की जनता का विश्वास पूरी तरह खो चुकी है और उसका कोई भविष्य नहीं है। उन्होंने कहा कि दूसरी ओर भाजपा के पास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रूप में मजबूत, सक्षम और दूरदर्शी नेतृत्व है।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कुल्लू दशहरा की स्मारिका का विमोचन भी किया। उन्होंने विभिन्न कार्यक्रमों के विजेताओं को पुरस्कार भी प्रदान किए। मुख्यमंत्री ने श्रीनिवास रामानुजम योजना के तहत विद्यार्थियों को मोबाइल फोन भी वितरित किए।
इससे पहले, मुख्यमंत्री ने 38.25 करोड़ रुपये की 10 विकासात्मक परियोजनाओं के उद्घाटन और 126.05 करोड़ रुपये की 21 परियोजनाओं के शिलान्यास किए। उन्होंने 10.29 करोड़ रुपये से निर्मित मनाली सर्किट हाउस के अतिरिक्त आवास, 4.63 करोड़ रुपये से निर्मित लोक निर्माण विभाग मंडल कार्यालय मनाली, बंजार तहसील में चानन बस्ती के लिए 93 लाख रुपये की जलापूर्ति योजना, औट-लारजी सड़क 5.82 करोड़ रुपये, जल क्रीड़ा केंद्र लारजी और तत्तापानी 6.44 करोड़ रुपये, भुंतर-मणिकर्ण मार्ग पर जैन नाला पुल 2.74 करोड़ रुपये, दोहरानाला पुल 1.51 करोड़ रुपये, अतिरिक्त जिला पुस्तकालय भवन 1.29 करोड़ रुपये और 4.60 करोड़ रुपये की लागत से भुटटी में निर्मित विद्युत सब स्टेशन और अग्निशमन केंद्र जरी का उद्घाटन किया।
जय राम ठाकुर ने ग्राम पंचायत भुईंन और बशौणा के लिए 6.37 करोड़ रुपये की जलापूर्ति योजना, कुल्लू शहर के छूटे क्षेत्रों के लिए 3.10 करोड़ रुपये की सीवरेज योजना, 8.50 करोड़ रुपये के सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट बदाह, ढालपुर में 2.63 करोड़ रुपये की पार्किंग, मार्केट एवं पैवेलियन, ग्राम पंचायत सोयल, नग्गर, हलाण-1 और नथान के लिए 10.30 करोड़ रुपये की जलापूर्ति योजना, कटराईं, हलाण-2 और बराण की जलापूर्ति योजना 5.68 करोड़ रुपये, ग्राम पंचायत गोजरा और खखनाल की पेयजल योजना 2.23 करोड़ रुपये, मैहली बिहाल और अरछंडी में बाढ़ नियंत्रण कार्य 4.73 करोड़ रुपये, बंदरोल-शारन सड़क 3.61 करोड़ रुपये, फोजल-नेरी-काथी कुकड़ी सड़क का उन्ननयन 6.69 करोड़ रुपये, मनाली-बुरूआ सड़क का उन्नयन 7.34 करोड़ रुपये, पतलीकूहल-हलाण-द्वितीय सड़क का उन्नयन 9.94 करोड़ रुपये, मनाली-कन्याल सड़क का उन्नयन 5.04 करोड़ रुपये, छाकी-हलाण सड़क का उन्नयन 7.70 करोड़ रुपये, नथान-जाणा सड़क का उन्नयन 10.69 करोड़ रुपये, फाटी बीनी, फाटी बिहार, कोठी चैहणी जलापूर्ति योजना 6.31 करोड़ रुपये, धागराकोहरी, जनेडगलू से दोघर लौल सड़क 2.03 करोड़ रुपये, रामशिला-बिजली महादेव सड़क का उन्नयन 17.81 करोड़ रुपये, अखाड़ा बाजार कुल्लू के रामबाग में 35 लाख के शहीद स्मारक, बिजली महादेव में डेढ़ करोड़ रुपये के बहुउद्देश्यीय पर्यावरण संरक्षण केंद्र और सैंज में 3.5 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले बस स्टैंड की आधारशिला भी रखी।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि पिछले पांच वर्षों में पूरे राज्य और विशेष रूप से कुल्लू जिले में चहुमुखी विकास हुआ है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी के दौरान मुख्यमंत्री ने यह सुनिश्चित किया कि विकास कार्य प्रभावित न हों और साथ ही कोरोना रोगियों की सर्वाेत्तम देखभाल और उपचार भी सुनिश्चित किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस साल अंतरराष्ट्रीय कुल्लू दशहरा में हिस्सा लेने वाले देश के पहले प्रधानमंत्री बने। यह राज्य की देव संस्कृति में प्रधानमंत्री की आस्था को दर्शाता है।
बंजार के विधायक सुरेन्द्र शौरी, आनी के विधायक किशोरी लाल सागर और पूर्व सांसद महेश्वर सिंह ने भी इस अवसर पर अपने विचार रखे। उपायुक्त कुल्लू आशुतोष गर्ग ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।
इस अवसर पर एचपीएमसी के उपाध्यक्ष राम सिंह, एग्रो इंडस्ट्रीज के उपाध्यक्ष युवराज बौद्ध, जिला भाजपा अध्यक्ष भीमसेन, एसपी गुरदेव शर्मा, निदेशक उच्चत्तर शिक्षा डॉ. अमरजीत शर्मा, जिला कारदार संघ के अध्यक्ष दोत राम सहित अन्य गणमान्य लोग मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.