पूर्व विद्यार्थी, नए विद्यार्थियों के लिए प्रेरणा का स्रोत: जगत प्रकाश नड्डा

हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय ने पिछले 53 वर्षों में शिक्षा में नए आयाम स्थापित किएः जय राम ठाकुर

सांसद एवं भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने आज हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के परिसर में आयोजित पूर्व विद्यार्थी वृहद समागम-2022 को संबोधित करते हुए कहा कि किसी भी संस्थान के पूर्व विद्यार्थी नए विद्यार्थियों के लिए प्रेरणा स्रोत होते हैं क्योंकि उनकी उपलब्धियां विद्यार्थियों के लिए अनुकरणीय उदाहरण प्रस्तुत करती हैं।
जगत प्रकाश नड्डा ने कहा कि पूर्व विद्यार्थी वृहद समागम पूर्व विद्यार्थियों के मातृ संस्थानों के साथ सम्बन्ध को प्रगाढ़ करने का एक असाधारण अवसर है जिसमें पूर्व विद्यार्थियों को अपने अनुभव और उपलब्धियों को साझा करने का अवसर प्राप्त होता है। उन्होंने कहा कि इस विश्वविद्यालय के विद्यार्थी के रूप में जुड़ी उनकी कई अविस्मरणीय स्मृतियां हैं। उन्होंने कहा कि 11 विभागों के साथ शुरू हुए इस विश्वविद्यालय में आज 44 विभाग हैं। उन्होंने कहा कि 245 बीघा से अधिक परिसर वाले इस विश्वविद्यालय को आज देश के सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों में जाना जाता है। उन्होंने कहा कि यह उनके लिए गौरव का विषय है कि वे इस विश्वविद्यालय के 53 वर्षों के गौरवशाली इतिहास का हिस्सा रहे हैं।
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने अपने अध्यापकों और सह-विद्यार्थियों को याद करते हुए विश्वविद्यालय से जुड़े अपने अनुभवों और स्मृतियों को साझा किया। उन्होंने कहा कि इस विश्वविद्यालय के मंच से अपने अनुभव व्यक्त करना एक कठिन कार्य है। यह विश्वविद्यालय प्रदेश की राजनीति का केंद्र रहा है। उन्होंने छात्र नेता के रूप में राकेश सिंघा के साथ अपने अनुभवों को भी साझा किया। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय ने उन्हें सिखाया कि सह-अस्तित्व से ही आत्म अस्तित्व संभव हो सकता है। उन्होंने कहा कि उन्हें कई विश्वविद्यालयों में कार्य करने का अवसर प्राप्त हुआ लेकिन हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय की एक अपनी एक अलग विशेषता है।
जगत प्रकाश नड्डा ने कहा कि हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय का माहौल पड़ाई के लिए अत्यंत अनुकूल है। उन्होंने कहा कि पड़ाई के अतिरिक्त विश्वविद्यालय खेल, रंगमंच और राजनीति के क्षेत्र में भी अवसर प्रदान करता है। उन्होंने कहा कि समर्पण, ईमानदारी और लगन से सफलता प्राप्त की जा सकती है। सफलता प्राप्त करने के लिए व्यक्ति को अपने प्रयासों में ईमानदारी के साथ एकता में विश्वास रखना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि हमारा यह कर्त्तव्य बनता है कि हम विश्वविद्यालय में शिक्षा अर्जित कर उसका उपयोग समाज के कल्याण के लिए करें।
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने विद्यार्थियों को अपना लक्ष्य निर्धारित करने और अपने अन्दर छिपी प्रतिभा को पहचानने का प्रयास करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि हमें अपनी प्रतिभा का उपयोग समाज के कल्याण के लिए करना चाहिए। उन्होंने कहा कि ईमानदारी से किए गए प्रयासों से सफलता का मार्ग प्रशस्त होता है। उन्होंने विद्यार्थियों को सलाह दी कि मेहनत और लगन से ही सफलता हासिल की जा सकती है।
इस अवसर पर कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि विद्यार्थी अवस्था जीवन का सबसे महत्वपूर्ण समय होता है। उन्होंने कहा कि वल्लभ डिग्री महाविद्यालय से अपनी राजनीतिक यात्रा शुरू कर आज वे अपने क्षेत्र का पांचवीं बार प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज शिलान्यास किए गए एलुमनाई (पूर्व छात्र) भवन का निर्माण शीघ्रता से किया जाएगा। यह भवन न केवल पुराने विद्यार्थियों को सुविधा प्रदान करेगा बल्कि विश्वविद्यालय की पुरानी स्मृतियों का संग्रहण भी करेगा।
जय राम ठाकुर ने कहा कि 53 वर्ष पूर्व स्थापित ए ग्रेड के रूप में मान्यता प्राप्त इस विश्वविद्यालय को अब ए प्लस ग्रेड का लक्ष्य हासिल करने के लिए प्रतिबद्धता से कार्य करना चाहिए। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय के समक्ष राष्ट्रीय शिक्षा नीति का सफल क्रियान्वयन सुनिश्चित करना एक बड़ी चुनौती है। उन्होंने कहा कि खेल और अन्य गतिविधियों में उल्लेखनीय उपलब्धियां हासिल करने के लिए विश्वविद्यालय कठिन परिश्रम से प्रयासरत है।
इससे पहले भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा और मुख्यमंत्री ने 8.95 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले एलुमनाई भवन का शिलान्यास भी किया। इस अवसर पर उन्होंने समरहिल पेनोरमा स्मारिका और एलुमनाई वेब पोर्टल को भी जारी किया।
हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर सत प्रकाश बंसल ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा, मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर तथा पूर्व विद्यार्थियों का स्वागत करते हुए कहा कि विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल करने वाले पूर्व विद्यार्थियों को सम्मानित करना न केवल पूर्व विद्यार्थियों अपितु विश्वविद्यालय के लिए भी एक ऐतिहासिक क्षण है।
पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित प्रसिद्ध फिल्म अभिनेता अमुपम खेर ने कहा कि इस छोटे से शहर शिमला ने उन्हें सपने देखना और उन्हें पूरा करना सिखाया। कॉलेज के दिनों को याद करते हुए उन्होंने कहा कि जो कोई व्यक्ति सपना देख सकता है वह उसे हासिल भी कर सकता है। उन्होंने कहा कि स्वयं पर दृढ़ विश्वास और माता-पिता तथा राष्ट्र के प्रति सम्मान रखकर लक्ष्य हासिल किए जा सकते हैंं।
विधायक राकेश सिंघा और विधायक सुखविंदर सिंह सुक्खू ने विश्वविद्यालय में अपने छात्र जीवन से जुड़े अनुभवों को साझा किया, विशेष रूप से विश्वविद्यालय में अपने छात्र दिनों के अनुभव साझा किए।
पूर्व छात्र संघ के अध्यक्ष प्रोफसर पी.के. आहुलावालिया ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा, पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित प्रसिद्ध फिल्म अभिनेता अमुपम खेर और पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया को ‘एलुमनाई ऑफ द ईयर’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
पदम श्री पुरस्कार से सम्मानित एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने उन्हें इस विशिष्ट पुरस्कार से सम्मानित करने के लिए विश्वविद्यालय के अधिकारियों का आभार व्यक्त किया। उन्होंने तीस वर्ष पहले इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज से जुड़े अपने अनुभवों का साझा किया।
विश्वविद्यालय की ओर से मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर, हिमाचल प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार, शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री राजिंद्र गर्ग, विधायक राकेश सिंघा और सुखविंदर सिंह सुक्खू, हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायाधीश विवेक सिंह ठाकुर, सी.बी. बरोवालिया और सुशील कुकरेजा, हिमाचल प्रदेश अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष वीरेंद्र कश्यप, एडवोकेट जनरल अशोक शर्मा, पूर्व एडवोकेट जनरल श्रवण डोगरा, पूर्व एडवोकेट जनरल आर.के.बावा, न्यायमूर्ति डी.के. शर्मा, विधायक हर्षवर्धन चौहान, विधायक सुभाष ठाकुर, विधायक नरेंद्र ठाकुर, विधायक राकेश जम्वाल, विधायक संजय अवस्थी, विधायक रीना कश्यप, मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार त्रिलोक जम्वाल, आपदा प्रबंधन बोर्ड के उपाध्यक्ष रणधीर शर्मा, हिमाचल पथ परिवहन निगम के उपाध्यक्ष विजय अग्निहोत्री, हरियाणा के मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार अमित आर्य, हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रोफेसर एल.आर.वर्मा, प्रोफेसर सुनील कुमार गुप्ता और प्रोफेसर ए.एन.डी. वाजपेयी, प्रोफेसर रणवीर चंद सोबती, हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के पूर्व प्रो वीसी, प्रोफेसर एन.के. शारदा, मनीष शर्मा, प्रोफेसर सी.एल. चंदन, प्रोफेसर शशि कुमार धीमान, प्रोफेसर डी.डी. शर्मा, डॉ. रचना गुप्ता, डॉ. जगत राम, पदम श्री डॉ. उमेश भारती, डॉ. लाल सिंह, हिम चटर्जी, गीता कपूर, प्रोफेसर कुमार कृष्ण, डॉ. रेखा वशिष्ट, मीनाक्षी चौधरी, सोनिया शर्मा, डॉ अजय श्रीवास्तव, नरदेव सिंह, डॉ. रमेश शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार राकेश लोहुमी, डॉ अश्वनी शर्मा, डॉ. प्रतिभा चौहान, मुकेश राजपूत, अर्चना फुल, गौरव बिष्ट, पवन शर्मा और प्रकाश भारद्वाज, सोनिया शर्मा, धारा सरस्वती आदि को डिस्टिंगग्विशड एलुमनाई आवार्ड से सम्मानित किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.