डब्बल इंजन की सरकारें लागू कर रही है विनाशकारी नीतियाँ-तपन सेन

मज़दूर-किसान विरोधी नीतियों को रोकने करने के लिए जनता का संघर्ष ज़रूरी

सीटू का दो दिविसिय 14वां राज्य सम्मेलन आज मंडी में शुरू हुआ जिसमें सीटू से जुड़ी 65 यूनियनों के तीन सौ प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं।इस सम्मेलन की अध्यक्षता विजेंद्र मेहरा, जगत राम, भूपेंद्र सिंह, जोगिंदर कुमार और विना शर्मा कर रहे हैं।स्वागत समिति के अध्यक्ष कामरेड देवीदास ने सभी मेहमानों और प्रतिनिधियों का स्वागत किया ।जिसका उदघाटन सीटू के राष्ट्रीय महासचिव व पूर्व सांसद तपन सेन ने किया।उन्होंने कहा कि देश गंभीर हालत से गुज़र रहा है जिसमें सरकार की विनाशकारी नीतियों के कारण एक तरफ़ जनता महँगाई व बेरोज़गारी से परेशान है तो दूसरी तरफ अर्थव्यवस्था संकट में है जिसमें रोज़गार बढ़ने के बजाये कम होते जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार लगातार मज़दूर, किसान और आमजनता विरोधी नीतियां लागू कर रही है। सरकार की आर्थिक नीतियों के कारण आज देश की सम्पत्तियां मुठी भर पूंजीपतियों को लुटाई जा रही है जिसका परिणाम ये है कि अडानी आज दुनियां का दूसरे नंम्बर का धनवान बन गया है जबकि ग़रीबी में हम नाइजीरिया से भी नीचे चले गए हैं। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र को राष्ट्रीय मौद्रिकरण पाईपलाईन योजना के नाम पर अपने मित्र पूंजीपतियों को कौड़ियों के भाव बेचने की नीति लागू की है।रेल, कोयला ,हवाई जहाज, बैकं, बीमा क्षेत्र के साथ साथ अब तो सरकार ने फ़ौज में सैनिकों की भर्ती को भी पार्ट टाइम आधार पर शुरू कर दिया जिसके चलते अब अग्निवीर भर्ती किये जायेंगे।सरकार सभी प्रकार के रोज़गार स्थायी के बदले पार्ट टाइम और कांट्रेक्ट पर उपलब्ध कराने की नीति लागू कर रही है। सरकार ने मज़दूरों के हकों की रक्षा के लिए बने श्रम कानूनों को पूंजीपतियों और बड़ी कारपोरेट घरानों के पक्ष में बदलने का फैसला लिया है जिसका सीटू और अन्य मज़दूर संगठन विरोध कर रहे हैं। सरकार ने काम के घण्टे आठ से बढ़ाकर बारह करने का फैसला किया है।मोदी सरकार आज़ादी के 75वीं सालगिरह के मौके पर आयोजित किए जा रहे । अमृत महोत्सव के नाम पर समाज में जहर घोल रहे हैं और इतिहास को तोड़ मरोड़ कर पेश किया जा रहा है।इस सरकार के कार्यकाल में धर्म व जाति के आधार पर बंटवारा बढ़ा है और महिलाओं और दलितों पर अत्याचार की घटनाएं लगातार बढ़ रहे हैं।इसलिये इन विनाशकारी नीतियों को लागू होने से रोकने का एक ही मंत्र है कि मज़दूर, किसान,कर्मचारी और अन्य मेहनतकश जनता को संगठित होकर इस सरकार के ख़िलाफ़ संघर्ष तेज करना होगा।

सम्मेलन को मज़दूर संगठन एटक के राज्य उपाधयक्ष लेख राम वर्मा,जनवादी महिला समिति की अध्यक्षा विना वैद्या, नौंजवान सभा के सुरेश सरवाल किसान सभा के जोगिंदर वालिया और एस एफ आई के उपेंद्र और हिमाचल ज्ञान विज्ञान समिति के भीम सिंह और एच पी एम आर के जगदीश ठाकुर ने भी अपने संगठन की ओर से सम्मेलन के लिए शुभकामनाएं दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.